Qaseeda Burda Sharif Lyrics in Hindi – Full Mp3 Download

अगर पुराने वक्त के हिसाब से माने तो ऐसा कहा जाता है कि क़ासीदा को इमाम अल-बुसिरी ने एक शक्तिशाली क्लेश की स्थिति में लिखा था, जब वह एक दिन उठा और खुद को आंशिक रूप से लकवाग्रस्त पाया और सभी विशेषज्ञ उसे ठीक करने में विफल रहे।

Qasida Burda Sharif Lyrics in Hindi 

आगे की कहानी जानने के लिए ये article पूरा जरुर पढ़े जिसमें Qaseeda Burda Sharif की कहानी विस्तार में बताई गई है…..

Qaseeda Burda Shareef Story

अपने पक्षाघात से पहले, वह काहिरा में एक प्रसिद्ध कवि थे। उन्हें अपने समाज के धनी और शक्तिशाली लोगों द्वारा व्यापक रूप से पहचाना जाता था। हालाँकि, उनकी स्थिति के कारण, जिस व्यक्ति की विद्वता और कला ने उन्हें कवियों के राजकुमार की स्थिति तक पहुँचाया था – वह एक अमान्य व्यक्तित्व में बदल गया था।

उस समय के दौरान उन्होंने पैगंबर मुहम्मद (PBUH) के लिए अपने संघर्ष रहित प्रशंसा में क़सीदा को इस विश्वास के साथ लिखा था कि मानवता का उद्धार अल्लाह के सामने उनकी उदारता और करुणा का आह्वान करने में होगा।

यह भी कहा जाता है कि एक रात, इस क़सीदा को पढ़ते हुए, निर्माता के साथ मध्यस्थता की स्थिति में, रोते हुए, प्रार्थना करते हुए और क्षमा के लिए प्रार्थना करते हुए, वह सो गया और कुछ चमत्कारी हुआ।

इमाम को दिया गया था (जिसने क़सीदा को मंजूरी दी थी) और इमाम के शरीर के लकवाग्रस्त हिस्से पर अपना आवरण (बर्दा / चादर) डाल दिया था। अगली सुबह, इमाम अल-बुसिरी ने खुद को पूरी तरह से ठीक कर लिया और अनुमान पूरा हो गया है कि, बाद में क़ासीदा बर्दा के लिए जाना जाता है।

Qasida Burda Sharif Lyrics in Hindi

सहर का वक्त था
मासूम कलियां मस्कुराती पतली
हवाएं खेर मकदम के तारने बंदूक गुणाती पतली
अभी जिब्राइल(अ.स.) पर उतरे भी ना वे काबे के मिम्बर से
के इतने में सदा आई ये अब्दुल्ला के घर से
मुबारक हो शाही हर दो जहान तशरीफ ले आए
मुबारक हो मोहम्मद मुस्तफा (S.A.W.) तशरीफ ले ऐ
मौला या साली वा सलीम दा ईमान अबदानी
अवल्ला हबीब बीका खैरिन खल्की कुलीहिमी
मौला या साली वा सलीम दा ईमान अबदानी
अवल्ला हबीब बीका खैरिन खल्की कुलीहिमी
मुहम्मदुन सैयदुल कोनैन-ए-वसाक़लैन
मुहम्मदुन सैयदुल कोनैन-ए-वसाक़लैन
वाल फरिकैनी मिन अरबियों वा मिन आजमी
वो मोहम्मद (स.अ.व.) फ़ख़र-ए-आलम बादशाह-ए-इंस-ओ-जान
सरवर-ए-कोनैन
सुल्तान-ए-अरबी
शाह-ए-आजमी
वो मोहम्मद (स.अ.व.) फ़ख़र-ए-आलम बादशाह-ए-इंस-ओ-जान
सरवर-ए-कोनैन
सुल्तान-ए-अरबी
शाह-ए-आजमी
ऐक दिन जिब्राइल(अ.स.) से कहने लगे शाह-ए-उम्मम
मैंने देखा है जहान
बटलाओ तो केसे हैं हम
अर्ज़ की जिब्राइल (अ.स) ने ऐ शाहिदी ऐ मोहताराम
आप का कोई मुमासिल ही नहीं रब की क़सम
मौला या साली वा सलीम दा ईमान अबदानी
अवल्ला हबीब बीका खैरिन खल्की कुलीहिमी
अवल्ला हबीबुल अज़ीतुर जा शफ़तुहु
अवल्ला हबीबुल अज़ीतुर जा शफ़तुहु
ली क्वाली हॉलिम मीनल अहवाल्म मुअक्तमिन
मेरे मोला सदा अथिउद्रिद के गजरे अपने मबूब पर जो तेरी ह तक्लीक बेहत्री
उसी महबूब से बाबास्ता उम्मिदे शफत एच के हर हिम्मत शिकार मुश्किल में
जिस दस्तगिरी किस
नव कोई आप (S.A.W) जेसा था
नव कोई आप(S.A.W) जैसा हो गया
कोई युंसुफ से पुचे मुस्तफा का हुस्न केसा हो
ज़मीन-0-आसमान में कोई भी मिसाल न मिली
मौला या साली वा सलीम दा ईमान अबदानी
अवल्ला हबीब बीका खैरिन खल्की कुलीहिमी
सलाम यूएस पीआर के जिसे बकासन की दस्तगीरी की
सलाम यूएस पर के जिसे बादशाही में फकीरी ​​की
सलाम उस के जिस के घर में चाँदी थी न सोना था
सलाम यूएस पर के टूटा बोर्या जिस्का बिछोना था
सलाम ऐ अमीना के लाली
ऐ महबूब-ए-सुभानी
सलाम ऐ फाखरी
मौजुदाद फाखरी नोए इंसानी
तेरी सूरत तेरी सीरत
तेरा नक्ष तेरा जलवा
तब्बसुम गुफ्तुगु बंदनावाज़ी खंडा पेशानी
तेरा दर हो मेरा सर हो
मेरा दिल हो तेरा घर हो
तमन्ना मुक्तासर सी है
मगर तम्हीद से लाना
मौला या साली वा सलीम दा ईमान अबदानी
अवल्ला हबीब बीका खैरिन खल्की कुलीहिमी
मौला या साली वा सलीम दा ईमान अबदानी
अवल्ला हबीब बीका खैरिन खल्की कुलीहिमी

Qaseeda Burda Shareef Full Mp3 Download

Qasida Burda Sharif in Hindi Pdf

Qasida Burda Sharif Writer Name

कसीदत अल-बुरदा, या इसे संक्षेप में हम अल-बुर्दा नाम से भी जानते हैं. मिस्र के प्रख्यात सूफी फकीर इमाम अल-बुसिरी द्वारा तेरहवीं शताब्दी में रचित यह इस्लामी पैगंबर मुहम्मद के लिए प्रशंसा का प्रतीक है।

यह कविता जिसका वास्तविक शीर्षक अल-कावाकिब अद-दुरिया फी मादी खैर अल-बरिया है इसका मुख्य रूप, सुन्नी मुस्लिम दुनिया में काफी ज्यादा प्रसिद्ध है।

Qasida Burda Sharif Lyrics by Mehmood Ul Hassan

मावलया सल्ली वा सलीम दयमानो

अबादन आला हबीबी का ख़ैरिल ख़ल्की कुल्लिहिमी

मुहम्मदुन सैय्यदुल कावनैनी वा थकलायन

वाल फरीकैनी मिन उर्बिव वामिन आजमी

नब्बियुनाल अमीरुन नहीं फला अहदुन्नी

अबरा फ़ि कव्ली ला मिन हुवाला नामी

हुवल हबीबुल्लाधी तुरजा शफा अतुहु

लिकुली हौ लिमिनल अहवाली मुक्ताहमी

शुभ तैयबा में हुई बात ता है बारा नूर का;

सदा लेने नूर का आया है तारा नूर का;

बाग तैयबा में सुहाना फूल फूल नूर का;

मस्त बुउ है बुलबुलें पार्टी है कलिमा नूर का;

बाराहीन के चांद का मुजरा है सजदा नूर का;

बाराह बुर्जों से झुका इक सितारा नूर का;

तेरे ही माथे रहा ऐ जान सहारा नूर का;

बख्त जागा नूर का चमका सितारा नूर का;

मैं गदा तू बादशाह भर दे पियाला नूर का;

नूर दिन दुना तेरा दे दाल सदक़ा नूर का;

ताज वाले देख कर तेरा इमामा नूर का;

सर झुका ते है इलाही बोल बाला नूर का;

चांद झुक जाता है जिधर उन्ली उठते मेहद में;

क्या ही चलता ता इशारा पर खिलावना नूर का;

तेरी नसल पाक में है बच्चा बच्चा नूर का;

तू है ऐन ए नूर तेरा सब घराना नूर का;

ए रज़ा ये अहमद नूरी का फ़ैज़ ए नूर है;

हो गई मेरी ग़ज़ल बढ़ा कर क़सीदा नूर का;

मावला या सल्ली वा सलीम दैमन अबदान

आला हबीबी का खैरिल खालकी कुल लिहिमी

Qaseeda Burda Shareef by Junaid Jamshed Mp3 Free Download
Qaseeda Burda Shareef Background Music
Qaseeda Burda Shareef Benefits

क़सीदा बुरदा शरीफ़ के कुछ गुण और फ़ायदे…

  1. अगर आप आपके लिए लंबी उम्र की चाहत रखते हैं तो आपको, 1001 बार जाप करें और जीवन में बाराकाह करना होगा.
  2. अगर आप आपके जीवन से कठिनाई दूर करना चाहते हैं तो, 71 बार जाप करना होगा.
  3. अगर आप आपके जीवन में दौलत में बरकत चाहते हैं तो, 70 बार जाप करना होगा.
  4. अगर आप एक संतुष्ट एवं रोज़मर्रा की मुश्किलों को दूर रहना चाहते हैं तो आपको रोज़ 1 बार जाप करना होगा.
  5. अगर आप आपके घर में संतान प्राप्ति का वरदान पाना चाहते हैं तो आपको, 116 बार जाप करना होगा.
  6. आप इसका पूरे दिन भर में 1 बार पाठ करके आपके घर के बच्चों की सुरक्षा और लंबी उम्र के लिए उन पर वार कर सकते हैं.
  7. जिस घर में यह धन्य क़ासीदा पढ़ी जाती है, वह निम्नलिखित परेशानियों से हमेशा सुरक्षित रहते है:
    • असैब
    • जीन
    • विपत्तियों
    • महामारी
    • चेचक
    • आँखों के रोग
    • अचानक मौत
    • दुर्भाग्य।
  8. अगर आप आपके जीवन में कर्ज से मुक्ति चाहते हैं तो आपको यह 1 बार जाप करना होगा.
  9. अगर आप प्रतिदिन सुरक्षित रूप से घर पहुंचने और लौटने चाहते हैं तो आपको यात्रा करते समय करना होगा.
  10. अगर आपके जीवन में अत्यधिक कष्ट हैं और आप उनको दूर करना चाहते हैं तो आपको 3 दिनों का उपवास करना चाहिए, और क़ासीदा को 21 बार रोज़ाना पढ़ना चाहिए.
  11. ऐसा माना जाता है कि नियमित पाठ करने वाले को सबसे प्रिय सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम, इनशाअल्लाह तआला की ज़ियारत से नवाजा जाता है.

क़सीदा बुरदा शरीफ़ पढ़ने के और भी कई फ़ायदे हैं, जिस उद्देश्य के लिए इसका पाठ किया जाता है वह ‘शाअल्लाह तआला’ में पूरा हो जाता है.

जैसा कि सभी कार्यों के साथ इरादा सही होना चाहिए, भोजन हलाल होना चाहिए, कमाई हलाल होनी चाहिए, आंतरिक और बाहरी व्यक्ति स्वच्छ और शुद्ध होना चाहिए उसी तरह कम खाएं, कम सोएं एवं कम बोलें आपकी जिंदगी सालों साल खुशी रहेगी.

Qaseeda Burda Shareef by Junaid Jamshed Youtube

अगर आपको Qasida Burda Sharif Lyrics in Hindi में पसंद आए तो इस भजन के Lyrics को अपने प्रियजनों के साथ जरुर शेयर करे और साथ गाए एवं आपको इस भजन की कौन सी लाइन सबसे ज्यादा पसंद आई Comment करे.

अगर आप चाहते हैं हम आपकी पसंद का कोई भजन के Lyrics यहाँ पर Publish कारें अतो आप यहाँ निचे दिए Comment Box में आपकी राय दे सकते हैं.

Questions & Answer:
Vaishnav Jan To Tene Kahiye Lyrics in Hindi - Vaishnav Jan To Tene Kahiye Lyrics in English

Vaishnav Jan To Tene Kahiye Lyrics in Hindi – Ks Chithra Song Download

Zindagi Ka Safar Lyrics in Hindi

Zindagi Ka Safar Lyrics in Hindi & Translation, Download, Kishore

Aigiri Nandini English Translation

Aigiri Nandini English Lyrics – Rajalakshmee Ringtone Download

Author :
Lyricbrary is a song library where you can find any songs lyrics and read them and sing them out loud.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *